न्याय पर कविता (हास्य व्यंग्य) – 2 Justice Par Kavita | Law Poem in Hindi

न्याय पर कविता – भ्रष्ट प्रशासन की वजह से देश में कानून एक सामान्य नागरिक के साथ कितना Justice कर पाता है। यह आप भली भांति जानते हैं। यह हास्य व्यंग्य Hindi Poem बिगड़े हुए Law & Order पर एक कटाक्ष है।

न्याय पर कविता

न्याय का अन्याय

देश में हर तरफ दंगा फसाद रेप अपहरण का है राज।
वर्षों से है रीत पुरानी अभी हुए देशवासी क्यों नाराज।।

कानून  देगा सबको सजा, हर अपराध का होगा इन्साफ।
बस अपराधी VIP तो हाफ, नेता हुआ तो सब कुछ माफ़।।

माफ़ी भी एक इन्साफ है, देश में बड़ी जरूरी।
बस मिलती उसे जो कीमत देता पूरी – पूरी।।

पूरी कीमत पूरा न्याय, न्याय से ऊपर कोई नहीं।
बस कुछ नेता और नोटवाले, सच फिर ऊपर कोई नहीं।।

सॉरी एक ऊपर वाला भी, ले शॉर्टकट वहां भी जाकर न्याय मांगे।
वैसे भी न्यायालय के चक्कर खाकर लटका देते कब्र में टांगे।।

न्यायालय में टांगे थोड़ी घिस जाती, न्याय मिलता पूरा बासी।
इसलिय समझदार लोग, लगा लेते पहले ही फाँसी।।

खुद लगाना फांसी कानून पर दया है, मत कहना आत्महत्या है।
यहाँ  इंतज़ार ही कर देता इन्साफ, नहीं मिलता  यह मिथ्या है।

मिथ्याओं में मत फंसो देश के समझदार नागरिक तुम।
न्याय न्याय चिल्लाने से सीधा काटो नेताओं की दूम (पूंछ)

दूम दबाकर नहीं भागेंगे देश के नेता असली हैं।
असली-असली भंवरे हैं जनता यहाँ पे कली है।

बस ये भंवरे प्यार नहीं पाप कली के साथ है करते।
अपने न्याय को भूल जाओ, न्यायालय से भी अन्याय करते।।

—— Lokesh Indoura

Join  Facebook Page Maskaree and Youtube Channel Maskaree , You should follow Twitter Account Maskaree

देश में प्रशासन और कानून की स्तिथि जग जाहिर है। यहाँ एक अपराधी खुले आम घूमता है। तो एक निर्दोष जेल में जिंदगी बिता देता है। Read – Unemployment Poem in Hindi

Read – Ram Mandir Hindi Poem

Justice Par Kavita | Law Poem in Hindi

क्या करे साहब इस देश में कानून है। जो बना गरीब के लिए, असहाय के लिए। वहीँ धनपति, राजनेता के लिए यह कानून एक खिलौना है। अब ऐसी कानून व्यवस्था से न्याय की भला कोई क्या उम्मीद करे। जिसकी उसके रखवाले ही दलाली करते हो।

देश में हर रोज अपराध होते हैं। कुछ अपराध तो पुलिस वाले ही इस देश में दबा देते हैं। पुलिस जो कि न्याय की प्रथम सीढ़ी दरअसल वहीं किसी के लिए न्याय अपने दम तोड़ देता है। न्याय पर कविता | Justice Par Kavita | Law Poem in Hindi

Read – Hindi Funny Poetry

अब Law इस देश में रसूखदारों की कटपुतली है। जिसके साथ हर रोज खिलवाड़ होता है। लोग को न्याय से आस होती है। और कभी कभी वही न्याय व्यवस्था उसका शोषण करती है। Read – Hindi Funny Questions

जब किसी महिला के साथ रेप होता है। और यदि वह इसकी रिपोर्ट थाने लिखानी क्या चली जाए। रेप के हवाले उस लड़की की इज्जत का जो पोस्टमार्टम होता है। वह उस रेप से भी ज्यादा पीड़ादायी होता है।

Leave a Reply